amazon

shopclues

myntra

Home / Child Development Pedagogy / INTELLIGENCE -शिक्षा मनोविज्ञान के महत्वपूर्ण तथय् -बुद्धि के सिद्धांत

INTELLIGENCE -शिक्षा मनोविज्ञान के महत्वपूर्ण तथय् -बुद्धि के सिद्धांत

शिक्षा मनोविज्ञान के महत्वपूर्ण  तथय्

सीखने की प्रक्रिया के कितने सोपान या स्टेप्स होते है।

सीखने की प्रक्रिया के 6 स्टेप्स होते है जो निम्नलिखित है।

(1)अभिप्रेरणा(motivation)
(2)उद्देश्य(objective)
(3)बाधा(Barrier)
(4)विभिन्न संभावित अनुक्रियाँ(various exploratory Responses)
(5)पुनर्बलन(Reinforcement)
(6)संघटन(integration).

व्यक्ति को किसी कार्य को कार्य करने के लिए एक अभिप्रेरणा(1) की आवश्यकता होती है और इस अभिप्रेरणा के बल पर वह अपना उद्देश्य(2) निर्धारित करता है। इस उद्देश्य की प्राप्ति जब वो करने का कोशिश करता है तो उसके सामने बहुत सारी बाधाएं (3) आती है।और उन बाधाओं को हल करने के लिए व्यक्ति हाथ पैर मारता है जिसे हम विभिन्न संभावित अनुक्रियाँ कहते है(4) जैसे ही कोई एक सही रास्ता मिलता है तो व्यक्ति पुनर्वलित (5)हो जाता है ।इस तरह अंत में सभी पदों का संघटन
(6) करके और सही अनुक्रिया का चुनाव करके वो समस्या को हल कर लेता है अतार्थ व्यक्ति सीख जाता है।

बुद्धि  के सिद्धांत

 1-बुद्धि का एक तत्व का सिद्धांत(unifactor theory of intelligence) बिने ने दिया।
2-बुद्धि का दो तत्व का सिद्धांत(Two factor theory of intelligence) स्पीयरमैन ने दिया।
3-बुद्धि का बहु तत्त्व का सिद्धांत(Multifactor theory of intelligence) Thorndike ने दिया।
4-बुद्धि समूह तत्व का सिद्धांत(Grouop factor theory of intelligence) Thurston ने दिया।
5-बुद्धि का प्रतिदर्श सिद्धांत(sampling theory of intelligence) थोमसन ने दिया
6-बुद्धि क्रमिक महत्व का सिद्धांत (Hierarchical theory of intelligence) Vernon ने दिया।
7-बुद्धि का त्रिआयाम सिद्धांत (Guilford theory of intelligence) गिल्फोर्ड ने दिया।
8-बुद्धि का बहुबुद्धि का सिद्धांत गार्डनर ने दिया।(multi intelligence theory)

Check Also

shudh ashud

हिंदी व्याकरण-अशुद्ध-शुद्ध shudh ashudh hindi grammer practice

Hindi Vyakaran Shudh Ashud ,PGT HTET~हिंदी व्याकरण-अशुद्ध—शुद्ध अशुद्ध — शुद्ध (shudh ashudh) अतिथी – अतिथि …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!