amazon

shopclues

myntra

Home / CTET / Hindi Grammer -हिंदी व्याकरण समास

Hindi Grammer -हिंदी व्याकरण समास

Hindi Grammer Smash-हिंदी व्याकरण  समास

समास :-
जब दो या दो से अधिक पद बीच की विभक्ति को छोड़कर मिलते है,तो पदों के इस मेल को समास कहते है।

‘समास के भेद ‘

समास के मुख्य सात भेद है :-
१.द्वन्द समास २.द्विगु समास ३.तत्पुरुष समास ४.कर्मधारय समास ५.बहुव्रीहि समास ६.अव्ययीभाव समास ७.नत्र समास


१.द्वंद समास :- इस समास में दोनों पद प्रधान होते है,लेकिन दोनों के बीच ‘और’ शब्द का लोप होता है। जैसे – हार-जीत,पाप-पुण्य,वेद-पुराण,लेन-देन ।


२.द्विगु समास :- जिस समास में पहला पद संख्यावाचक विशेषण होता है,उसे द्विगु समास कहते है। जैसे – त्रिभुवन ,त्रिफला ,चौमासा,दशमुख


३.तत्पुरुष समास :- जिस समास में उत्तर पद प्रधान होता है। इनके निर्माण में दो पदों के बीच कारक चिन्हों का लोप हो जाता है। जैसे -राजपुत्र -राजा का पुत्र । इसमे पिछले पद का मुख्य अर्थ लिखा गया है। गुणहीन ,सिरदर्द ,आपबीती,रामभक्त ।


४.कर्मधारय समास :- जो समास विशेषण -विशेश्य और उपमेय -उपमान से मिलकर बनते है,उन्हें कर्मधारय समास कहते है। जैसे –
१.चरणकमल -कमल के समानचरण ।
२.कमलनयन -कमल के समान नयन ।
३.नीलगगन -नीला है जो गगन ।

५.बहुव्रीहि समास :- जिस समास में शाब्दिक अर्थ को छोड़ कर अन्य विशेष का बोध होता है,उसे बहुव्रीहि समास कहते है। जैसे –
घनश्याम -घन के समान श्याम है जो -कृष्ण
दशानन -दस मुहवाला -रावण


६.अव्ययीभाव समास :- जिस समास का प्रथम पद अव्यय हो,और उसी का अर्थ प्रधान हो,उसे अव्ययीभाव समास कहते है। जैसे -यथाशक्ति = (यथा +शक्ति ) यहाँ यथा अव्यय का मुख्य अर्थ लिखा गया है,अर्थात यथा जितनी शक्ति । इसी प्रकार – रातों रात,आजन्म ,यथोचित ,बेशक,प्रतिवर्ष ।


७.नञ समास :- इसमे नही का बोध होता है। जैसे – अनपढ़,अनजान ,अज्ञान ।

Check Also

shudh ashud

हिंदी व्याकरण-अशुद्ध-शुद्ध shudh ashudh hindi grammer practice

Hindi Vyakaran Shudh Ashud ,PGT HTET~हिंदी व्याकरण-अशुद्ध—शुद्ध अशुद्ध — शुद्ध (shudh ashudh) अतिथी – अतिथि …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!