amazon

shopclues

myntra

Home / Child Development Pedagogy / शिक्षा मनोविज्ञान के महत्वपूर्ण तथय

शिक्षा मनोविज्ञान के महत्वपूर्ण तथय

 शिक्षा मनोविज्ञान के महत्वपूर्ण तथय 
 
१. कोलसनिक ने शिक्षा मनोविज्ञान का आरम्भ प्लेटो से माना है जबकि स्कीनर ने शिक्षा मनोविज्ञान का आरम्भ अरस्तु से माना है। 
२. किलपेट्रिक ने शिक्षा के क्षेत्र में प्रोजेक्ट प्रणाली को जन्म दिया तथा करके सीखने पर बल दिया। 
३. डॉ मरिया माण्टेसरी ने मंद बुद्धि बालको के लिए शिक्षण कराने हेतु मांटेसरी प्रणाली/विधि का प्रतिपादन किया। 
४. हरमन रोर्शा ने 1921 में स्याही धब्बा परिक्षण का निर्माण किया। 
;५. गाल्टन ने 1879 में साहचर्य विधि का निर्माण किया। 
६. आर्मस्ट्रांग ने ‘हुरिस्टिक पद्धति’ का प्रतिपादन किया।
७. टॉलमन ने 1932 प्रयोजनमय व्यवहार का प्रतिपादन किया।
८. ल्योपोल्ड बैलोक ने 1948 व्यक्तित्व मापन के लिए C. A. T. सम्प्रत्यक्ष परीक्षण का निर्माण किया।
९. डॉ कार्लटन ने वे विनेटिका इकाई प्रणाली का प्रतिपादन किया।
१०. जॉन लोक ने ‘इन्द्रयानुभववाद’ का प्रवर्तन किया।
११. वोल्फ ने शक्तिमनोविज्ञान का प्रतिपादन किया।
१२. कुछ मनोविज्ञानिक ने चेतना की रचना पर अधिक बल दिया उनको सरंचनावादी कहा गया। जबकि जिन मनोवैज्ञानिक ने चेतना के कार्य पर विचार किया वे प्रकार्यवादी कहलाएं।
१३. एन्जेल ने प्रकार्यवाद की मीमांसा की।
१४. ‘पूर्ण से अंश की ओर’ शिक्षण सूत्र समग्रवाद संप्रदाय की देन है।
१५. पर्यावरणीय सिद्धान्त के प्रणेता रोजर्स है।
१६. परिष्कार का सिद्धान्त अरस्तु ने दिया।
१७. अरस्तु को अग्रेजी भाषा में अरिस्टोटल के नाम से जाना जाता था। अरस्तु व अरिस्टोटल एक ही व्यक्ति के नाम है।
१८. 3-H का सम्प्रत्य पेस्टालोजी ने दिया।
१९. ‘जनरल साइकोलॉजी’ पुस्तक के लेखक गिलफर्ड है।
२०. शिक्षा मनोविज्ञान की औपचारिक आधारशिला जी. स्टेनले हॉल के प्रयासों से 1889 में रखी गई।

Check Also

shudh ashud

हिंदी व्याकरण-अशुद्ध-शुद्ध shudh ashudh hindi grammer practice

Hindi Vyakaran Shudh Ashud ,PGT HTET~हिंदी व्याकरण-अशुद्ध—शुद्ध अशुद्ध — शुद्ध (shudh ashudh) अतिथी – अतिथि …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!